JavaScript is disabled! Why you want to do so? Please enable JavaScript in your web browser!
Pankhudiya 8
ISBN : 9788130933214
Publish : 2020
Pages : 144
Price : 295.00

Pankhudiya 8

Hindi Pathmala
 
Author Dr. Madhu Dhawan
Class 8

विवरण​ :

पंखुड़िया हिंदी पाठमाला प्रवेशिका स्तर से आठवीं कक्षा तक के लिए है। इस पाठमाला में बाल-मनोविज्ञान तथा विद्यार्थियों की योग्यतानुसार सदाचार, प्रेम आदि सद्गुणों का तथा जीवन नें कदम-कदम पर नैतिक मूल्यों की अनिवार्यता पर ध्यान दिया गया है। 

विशेषताएं:

  •  पाठ सरस, रोचक तथा सरल तरीके से सिखाए गए हैं। 
  •  यह बाल-मनोविज्ञान पर आधारित है, जिसमे विद्यार्थियों की आयु तथा मानसिक स्तर का पूरा ध्यान रखा गया है।   
  •  पाठ नैतिक मूल्यों से तथा नवीनतम तकनीकी ज्ञान के तथ्यों से परिपूर्ण है। 
  •  लेखन कला तथा व्याकरण ज्ञान को ध्यान में रखकर प्रश्न तथा अभ्यास लिखे गए हैं। 
  •  कल्पना तथा विचारशक्ति को बढ़ावा देने वाले प्रश्नों का समावेश है। 
  •  शिक्षकों के मार्गदर्शन हेतु शिक्षक दर्शिकाएं उपलब्ध कराई गई है। 
  •  बहुविकल्पीय प्रश्नों (मास्क्स) के विभिन्न प्रकारों का समावेश किया गया है। 


पुस्तक श्रृंखला के बारे में :

प्रवेशिका - अक्षर ज्ञान करवाने का प्रयास है।  विद्यार्थियों के मनोविज्ञान को ध्यान में रखकर मौखिक और लिखित ज्ञान दिया गया है।
पहली कक्षा - गीतों के माध्यम से स्वर और व्यंजन सिखाने का प्रयास है। चित्र देखकर अक्षर पहचानना और सही उच्चारण पर जोर है। क्रिया रूप दिखाकर बच्चों को समझाया गया है।
दूसरी कक्षा - बारहखड़ी यानि मात्राओं का प्रयोग सिखाया गया है। हर मात्रा का छोटा गीत और कहानी दी गई है।
तीसरी कक्षा - इस कक्षा में विद्यार्थियों को समुचित संयुक्ताक्षर का मौखिक तथा लिखित ज्ञान दिया गया है।
चौथी कक्षा - शब्द भंडार तथा उच्चारण पर बल दिया गया है।  इस पुस्तक में लिंग, वचन, संज्ञा, सर्वनाम आदि बतलाने का प्रयास भी है।
पांचवीं - आठवीं कक्षा - लेखन कला पर बल दिया गया है।  प्रश्नोत्तर की कला तथा व्याकरण का सामान्य ज्ञान दिया गया है। 

लेखिका :

डॉ. मधु धवन : हिंदी विभागाध्यक्ष, स्टेल्ला मॉरिस कॉलेज, चेन्नई, विगत 30 वर्षों से स्कूली शिक्षा विकास हेतु बहुआयामी शिक्षण-प्रशिक्षण की कार्यशालाएं चलाती आ रही है। स्कूली पाठ्यक्रम सामग्री विकास में आपकी विषयक रूचि है। 

सहयोग व परामर्श :

डॉ. कमला विश्वनाथन, हिंदी विभाग, स्टेल्ला मॉरिस कॉलेज, चेन्नई। 

Share with your friends

Share on Facebook Share on Twitter Share on LinkedIn Share on Pinterest